एफिलिएट मार्केटिंग क्या है और आप इससे कैसे पैसे कमा सकते हो – पूरी जानकारी

एफिलिएट मार्केटिंग क्या है और आप इससे कैसे पैसे कमा सकते हो - पूरी जानकारी

एफिलिएट मार्केटिंग क्या है – वैसे तो जब भी ऑनलाइन पैसे कमाने की बात करते हैं तो प्रमुख तौर पर Google Adsense की ही ज्यादा बात होती है या फिर ज्यादा लोगों को इसी के बारे में ज्यादा पता भी होता है | लेकिन इसके अलावा भी आप एफिलिएट मार्केटिंग के जरिये बहुत अच्छा पैसा ऑनलाइन कमा सकते हो |

काफी सारे ऑनलाइन ब्लॉग्गिंग करने वाले bloggers की माने तो वो google adsense के बजाय एफिलिएट मार्केटिंग को ज्यादा profitable मानते हैं | बस अगर इसे सही से किया जाये तो |

तो आज के इस बहुत ही खास पोस्ट में, मै आपको एफिलिएट मार्केटिंग क्या है और इसके बारे में पूरी जानकारी देने वाला हूँ |

Table of Contents

एफिलिएट मार्केटिंग क्या है

एफिलिएट मार्केटिंग  क्या है
image source : https://wichydev.com/

अगर मै आपको सिंपल भाषा में बताने का प्रयास करूँ तो एफिलिएट मार्केटिंग एक ऐसा तरीका है जिसमे आप किसी person को refer करते हो कोई ऑनलाइन प्रोडक्ट buy करने के लिए जिसके बदले में आपको कमीशन मिलता है अब ये कमीशन कम भी हो सकता है और बहुत ज्यादा भी ये depend करता है की आपने कौनसे प्रोडक्ट को खरीदने के लिए person को refer किया है |

एफिलिएट मार्केटिंग को रेफरल मार्केटिंग भी कहा जाता है | इंडिया में Shoutmeloud ब्लॉग का नाम तो आपने सुना ही होगा जिसके फाउंडर हर्ष अग्रवाल हैं जो सबसे ज्यादा इनकम एफिलिएट मार्केटिंग से ही करते हैं |

इंडिया में अगर हम एफिलिएट प्रोग्राम चलाने वाली टॉप कंपनियों की बात करें तोवो हैं –

1- Amazon.in

2- Flipkart

3- GoDaddy

4- VCommission

5- make my trip

एफिलिएट मार्केटिंग और Google Adsense, कौन है ज्यादा बेहतर

मैंने देखा है की काफी सारे लोग इस उलझन में रहते हैं की क्या Google Adsense की तुलना में एफिलिएट मार्केटिंग से ज्यादा पैसे कमाए जा सकते हैं या फिर google Adsense ही बेहतर है |

तो आज मैं आपका ये confusion दूर करता हूँ |

1- एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करना ज्यादा आसान है बजाय Google Adsense के approval मिलने से |

2- अगर आप आपके ब्लॉग पर अच्छा ट्रैफिक आता है तो आप Adsense की तुलना में एफिलिएट मार्केटिंग से ज्यादा पैसा कमा सकते हो |

3- आपके Adsense अकाउंट को Google द्वारा ही चलाया जाता है जबकि एफिलिएट में आप किसी भी बड़ी या छोटी कंपनी को ज्वाइन कर सकते हो |

4- Google Adsense के द्वारा जो ad चलाये जाते हैं उसकी तुलना में एफिलिएट के ads ज्यादा attractive होते हैं जो विजिटर को ज्यादा अपनी और खीचते हैं जिससे प्रॉफिट ज्यादा होता है |

तो अगर कुल मिलाकर देखा जाये तो एफिलिएट मार्केटिंग ज्यादा फायदेमंद है Google Adsense की तुलना में लेकिन एफिलिएट मार्केटिंग में आपको काफी ज्यादा ट्रैफिक अपनी वेबसाइट पर चाहिए होता है और इसके साथ-साथ जिस भी कंपनी का आप एफिलिएट प्रोग्राम ज्वाइन करते हो वो कभी भी अपनी policy में change कर सकते हैं जिससे आपके प्रॉफिट पर असर भी पड़ सकता है |

एफिलिएट मार्केटिंग काम कैसे करता है| और आप कैसे इससे पैसे कमा सकते हो

अब मै आपको step-by-step बताने वाला हूँ की एफिलिएट मार्केटिंग कैसे काम करता है –

#1st Step – टॉपिक सेलेक्ट करें और ब्लॉग बनाये

एफिलिएट मार्केटिंग में सबसे ज्यादा इम्पोर्टेन्ट है की आप सबसे पहले एक टॉपिक सेलेक्ट करें जिस पर आप ब्लॉग बना सके और उसके बारे में आर्टिकल लिख सको |

काफी सारे लोग क्या करते हैं की किसी भी टॉपिक पर ब्लॉग बनाते हैं और बिना सोचे-समझे किसी भी एफिलिएट कंपनी के प्रोग्राम को ज्वाइन कर लेते हैं और सोचते हैं जो लोग ब्लॉग पर विजिट करेंगे वो जरुर इन एफिलिएट लिंक पर क्लिक करके प्रोडक्ट को खरीद लेंगे लेकिन ऐसा बिलकुल भी नही होता है |

Blog kis topic par banaye

क्योंकि आपने देखा ही होगा की जब हम कोई भी सामान खरीदने जाते हैं तो सबसे पहले हम उसकी जानकरी लेते हैं | तब हमारा मन बनता है प्रोडक्ट को buy करने का |

इसलिए सबसे पहले एक ऐसे टॉपिक को सेलेक्ट करें जिसके बारे में आप लोगों को बहुत ही अच्छे से जानकरी दे सकते हो जैसे मोबाइल फ़ोन के बारे में अगर आप अच्छी जानकरी रखते हो तो आप मोबाइल फ़ोन से रिलेटेड आर्टिकल अपने ब्लॉग पर लिख सकते हो और amazon और फ्लिप्कार्ट के एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन कर सकते हो और अपने ब्लॉग पर मोबाइल से रिलेटेड एफिलिएट लिंक या बैनर प्लेस कर सकते हो |

Top 5 affiliate marketing program in india  (2019)

इससे क्या होगा की पहले तो आपके ब्लॉग पर वही लोग लोग आयेंगे जो मोबाइल के बारे में जानना चाहते हैं या मोबाइल खरीदना चाहते हैं तो आपके पोस्ट को पढ़कर पहले पूरी जानकारी मोबाइल के बारे लेंगे और फिर उनका मन बनेगा मोबाइल खरीदना का तो आपके एफिलिएट लिंक से क्लिक करके उन वेबसाइट पर पहुँच जायेंगे और मोबाइल फ़ोन को आर्डर कर देंगे |

तो ये सबसे बेस्ट तरीका है एफिलिएट मार्केटिंग का | तो सबसे पहले आपको ब्लॉग का टॉपिक सेलेक्ट कर लेना है और दूसरा आपको फिर ब्लॉग को अपने टॉपिक के हिसाब से डिजाईन करना है तो आप वर्डप्रेस पर डोमेन और होस्टिंग खरीद कर वेबसाइट बहुत ही आसानी से बना सकते हो वो भी बिना किसी कोडिंग नॉलेज के भी आपको किसी भी वेबसाइट डेवलपर की भी जरुरत वर्डप्रेस में नही पड़ेगी |

WORDPRESS पर बहुत आसान तरीके से फ्री वेबसाइट कैसे बनाये – पूरी जानकारी

#2nd step – पोस्ट लिखें और उसे प्रमोट करें

काफी सारे लोग क्या करते हैं की ब्लॉग बनाते हैं उस पर 2 से 3 पोस्ट लिखते हैं और फिर एफिलिएट प्रोग्राम ज्वाइन कर सीधे एफिलिएट लिंक अपने ब्लॉग पर लगा देते हैं लेकिन उससे आपको कोई फायदा नही होने वाला क्योंकि एफिलिएट मार्केटिंग में पैसा कमाने के लिए पहले आपके ब्लॉग पर काफी ज्यादा विसिटर का होना बहुत जरुरी है |

तो ये विजिटर या ट्रैफिक आपके ब्लॉग पर कैसे आएगा ? सबसे पहले आपको ब्लॉग पर क्वालिटी पोस्ट लिखने होंगे | पोस्ट को डिटेल में पूरी जानकरी के साथ- साथ उन्हें SEO फ्रेंडली भी बनाना पड़ेगा |

क्वालिटी पोस्ट लिखने के बाद आपको उसे प्रमोट करना बहुत जरुरी है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग आपके ब्लॉग पर विजिट करे और आपके आर्टिकल को रीड करें इसके लिए आप अपने ब्लॉग पोस्ट का SEO तो करोगे ही लेकिन साथ में उसे सभी सोशल मीडिया जैसे फेसबुक,Instagram और ट्विटर जैसे प्लेटफार्म पर भी जरुर अपने पोस्ट को शेयर करें |

और साथ ही आप गूगल और फेसबुक पर पेड ads कैंपेन भी चला सकते हो अपने ब्लॉग पर instant ट्रैफिक लाने के लिए |

PPC (PAY PER CLICK) क्या है, क्यों जरुरी है और कैसे काम करता है

#3rd step – सही एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करें

और Last Step होता है जो की बहुत ही इम्पोर्टेन्ट Step है, एफिलिएट मार्केटिंग में की आप अपने ब्लॉग के टॉपिक के हिसाब से एफिलिएट प्रोग्राम का चयन करें और उन्हें ज्वाइन करें | इसके लिए आपको काफी अच्छे से रिसर्च करना है की आपके ब्लॉग के टॉपिक के हिसाब से ऐसे कौन-कौन से एफिलिएट प्रोग्राम हैं जो अच्छा कमीशन भी देते हैं और उनके एफिलिएट कोड को में आसानी से अपने ब्लॉग पर लगा भी सकता हूँ |

Top 20 Best Affiliate Marketing Programs in India in 2019

अब आपके ब्लॉग पर काफी सारे useful आर्टिकल हैं जिन्हें पढने हर दिन काफी सारे लोग भी आ रहे हैं | तो अब ये बेस्ट टाइम है की आप अपने ब्लॉग के टॉपिक से रिलेटेड एफिलिएट प्रोग्राम चलाने वाले कंपनी को ज्वाइन करें और उनके एफिलिएट कोड को अपने ब्लॉग पर लगाये और Income करें |

एफिलिएट मार्केटिंग से जुडी कुछ अहम terms के बारे में जानकरी

अभी तक इस पोस्ट से हमने ये जान लिया है की एफिलिएट मार्केटिंग क्या है ,ये कैसे काम करता है और हम कैसे एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कमा सकते हैं | और अब हम जानते हैं एफिलिएट मार्केटिंग से जुड़े कुछ इम्पोर्टेन्ट terms के बारे में जो की अगर आप एफिलिएट मार्केटिंग करना चाहते हो तो आपको पता होना बहुत ही जरुरी है |

Affiliates

Affiliates वो होते हैं जो किसी एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करते हैं और फिर अपने ब्लॉग के जरिये उनके प्रोडक्ट या सर्विस की खरीदने के लिए लोगों को रेफ़र करते हैं |

Affiliates Marketplace

Affiliates Marketplace उन कंपनी को कहते हैं जो Affiliate Marketing का प्रोग्राम चलाते हैं जैसे amazon, Click Bank ,Flipkart ,cuelinks आदि | ये सभी कंपनी अपने प्रोडक्ट या सर्विस को प्रमोट करने के लिए Affiliate प्रोग्राम चलाते हैं |

Affiliate ID

ये एक तरह की वो यूनिक ID होती जो Affiliates को Affiliate प्रोग्राम को ज्वाइन करने की बाद दी जाती हैं जिससे वो अपने एफिलिएट अकाउंट में log in कर सकता है |

Affiliate Link

ये वो लिंक होते हैं जो Affiliates अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर लगाते हैं और विजिटर इन्ही लिंक पर क्लिक करके प्रोडक्ट के पेज पर जाता है प्रोडक्ट को खरीदता है |

Commission

commission होता है जब Affiliates के ब्लॉग या वेबसाइट से विजिटर Affiliate लिंक से क्लिक करके किसी प्रोडक्ट के पेज पर पहुंचकर प्रोडक्ट को खरीद लेता है तो Affiliate marketplace से Affiliates को रेफरल commission दिया जाता है जिसका निर्धारण पहले से ही Affiliate Marketplace कर लेती हैं और ये समय-समय पर वो बदल भी सकते हैं |

Link clocking

जब Affiliates को Affiliate Marketplace से कीड़ी प्रोडक्ट का लिंक मिलता है तो बहुत ही बड़ा और अजीब होता जिससे समझने में बड़ी दिक्कत पेश आती है इसलिए URL shortners की मदद से उन लिनक्स को छोटा किया जाता है इसी प्रोसेस को Link clocking कहते हैं |

Payment Mode

Affiliates अगर किसी प्रोडक्ट को sell करा देता है तो उसका कमीशन का payment करने के तरीके को payment mode कहते हैं जैसे चेक,paypal ,wire transfer आदि |

Payment Threshold

किसी भी Affiliates को Affiliate Marketplace द्वारा तभी कमीशन की payment दी जाती है जब वो किसी फिक्स minimum sale करवा देता है | उस फिक्स्ड कमीशन को Payment Threshold कहते हैं |

एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में beginners के द्वारा अकसर पूछे जाने वाले कुछ अहम सवाल

क्या हम अपने ब्लॉग पर Google Adsense और एफिलिएट लिंक दोनों का प्रयोग कर सकते हैं ?

इसका जवाब है की हाँ, आप जरुर Google Adsense और एफिलिएट लिंक को लगा सकते हो अपने ब्लॉग पर दोनों से earning कर सकते हो | और आपको बता दूँ की आपका ब्लॉग अगर ऐसा है जो की किसी भी पर्टिकुलर प्रोडक्ट का रिव्यु के टॉपिक का है तो आप एफिलिएट और Adsense दोनों से अच्छी कमाई कर सकते हो |

Top एफिलिएट प्रोग्राम चलाने वाली कंपनी इंडिया में कौन-कौन सी हैं ?

अगर हम इंडिया में Top एफिलिएट प्रोग्राम की बात करें तो अमेज़न,फ्लिप्कार्ट,Cuelinks,Godaddy Paytem आदि काफी अच्छे एफिलिएट प्रोग्राम हैं | जिन्हें आप ज्वाइन करके अच्छी इनकम generate कर सकते हो |

Beginners कैसे एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करें ?

एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करने के लिए आपको उनकी वेबसाइट पर विजिट करना होगा जहाँ उन्होंने एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करने के लिए लिंक दिया होता है |

जिसके बाद आपको वहां पर अपना एफिलिएट अकाउंट ओपन करना होता है जिसके बाद एफिलिएट कंपनी वाले आपको एक यूनिक ID देते हैं जिसके बाद आप अपने एफिलिएट अकाउंट में लॉग इन कर सकते हो और एफिलिएट लिंक को लेकर अपने ब्लॉग पर लगा सकते हो |

एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कमाने के लिए क्या ब्लॉग या वेबसाइट का होना जरुरी है ?

हालाँकि आप फेसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर डायरेक्ट भी अपने एफिलिएट लिंक को प्रमोट कर सकते हो लेकिन काफी सारे एफिलिएट प्रोग्राम कंपनी की पालिसी में ये illegal माना जाता है जिसके बाद आपके एफिलिएट अकाउंट को ब्लाक भी किया जा सकता है| इसलिए मै तो यही कहूँगा की ब्लॉग और वेबसाइट से बेहतर कोई और तरीका नही है एफिलिएट मार्केटिंग के जरिये पैसे कमाने का |

एफिलिएट मार्केटिंग से कितना पैसा कमाया जा सकता है ?

अगर आपका एक रिव्यु करने वाला ब्लॉग है तो आप काफी अच्छा पैसा कमा सकते हो | और साथ ही आप उसी एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करें जिससे रिलेटेड प्रोडक्ट के बारे में आप रिव्यु लिख रहे हो |

घर बैठे ऑनलाइन पैसा कैसे कमाएं !

जैसे इंडिया के सबसे सफल ब्लॉगर जो एफिलिएट मार्केटिंग के जरिये बहुत अच्छी इनकम करते हैं हर्ष अग्रवाल जो की shoutmeloud के फाउंडर हैं | अगर आप उनके ब्लॉग को देखोगे तो आप देखोगे की उनका जिस टॉपिक के बारे में पोस्ट होता है एफिलिएट लिंक या बैनर भी उसी से रिलेटेड होता है जैसे अगर वो वेबहोस्टिंग के बारे में लिख रहे हैं तो बीच में या साइड में किसी वेबहोस्टिंग company का बैनर होगा | तो ये सबसे बेस्ट तरीका है एफिलिएट मार्केटिंग के जरिये पैसा कमाने का |

Final Words

मुझे पूरी आशा है की मेरे इस पोस्ट के पढने के बाद आप अच्छे से जान गये होंगे की एफिलिएट मार्केटिंग क्या है और आप कैसे एफिलिएट मार्केटिंग के जरिये पैसे कमा सकते हो |

अगर आपको मेरा ये पोस्ट हेल्फुल लगा तो जरुर इसे अपने बाकि दोस्तों में भी शेयर करें और साथ ही अगर आपका कोई भी सुझाव या सवाल हमारे इस पोस्ट या फिर ब्लॉग के बारे में है तो आप हमे कमेंट करके जरुर बताएं |

Sharing is caring!

(Visited 455 times, 2 visits today)

Deepak Bhandari

Hello friends! मै DeepakBhandari.in का फाउंडर हूँ, मुझे डिजिटल मार्केटिंग और ऑनलाइन बिज़नेस से related टॉपिक के बारे मे जानना और साथ ही उस जानकारी को लोगों के साथ शेयर करना काफी अच्छा लगता है | इस ब्लॉग के जरिये मेरी कोशिश है की आप लोग अपने बिज़नेस या करियर को ऑनलाइन grow कर पायें |

10 thoughts on “एफिलिएट मार्केटिंग क्या है और आप इससे कैसे पैसे कमा सकते हो – पूरी जानकारी

  1. Hey,

    Did you know that comments are the greatest Social Signals in the world?

    That’s right, relevant comments are a proven way to Boost Your Social Signals, Traffic and Engagement.

    Lazier forms of social signals such as likes, smileys and hearts are all fine & dandy…but they can never compare to the Power of Comments.

    So if you want to soar past your competition while experiencing the benefits of relevant comments on your site, contact me now for full details along with an exclusive offer for new customers only.

    Best Regards,
    Brian
    BulkComments Network

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *